Friday, April 10, 2015

Chandrakant Ras (चन्द्रकान्त रस)


चन्द्रकान्त रस (भैषज्य रसायन के अनुसार निर्मित)

गुण एवं उपयोग: 
यह अत्यंत वृष्य तथा रसायन है.
यह छी पुरुषों की छीणता को नष्ट कर उन्हें बलवान बनता है तथा कमजोर अंग में अंगवृद्धि करता है.

धातु रोगों से मुक्त जीवन, समस्त प्रकार के प्रमेह और अम्ल-पित्त रोग नष्ट होते हैं, ध्वजभंगादीरोग नष्ट करता है व अंगो को पुष्ट करता है. अश्मरी, दारुण मधुमेह, उग्रमूत्रातिसार, उग्र राजयक्ष्मा, भगन्दर एवं आठों प्रकार के शूल रोगों को समाप्त करता है. मानसिक शारीरिक दोषों को दूर कर धातुछीड़ता एवम् स्वप्नदोष से छुटकारा दिलाता है..

पुरुषों के लिए...
चन्द्रकान्त रस की एक एक गोली सुबह-शाम, एक चम्मच आंवले के रस और एक चम्मच शहद के साथ



Chandra Ras (Made in accordance with Bhaishejya Rasayan)

Properties and Uses: It is extremely vrishya and Rasayan.
            This medicine destroys men's weakness and makes them strong and enlarges the weak part of their body.
It cures from Spermatorrhea disease (Dhatu Rog) and all types of discharges. It makes patient free from acid-bile diseases, erectile dysfunction, and premature ejaculation. It also cures Calculus, terrible diabetes, severe TB (Tuberculosis), Fistula-in-ano or Piles (Bhagandar) and eliminates the eight types of colic diseases. It provide relief in access urination. It cures Nocturnal emission or night fall.

How to take: Chandra juice of one tablet in the morning and evening, a teaspoon of amla juice and a teaspoon of honey with. (Strict Warning: This is only informative article, please consult to doctor before taking it.)